Chain Drive ( चेन ड्राइव ) iTi Fitter Theorys हिंदी में | TRANSMISSION POWER

Chain Drive ( चेन ड्राइव )

चेन ड्राइव (Chain Drive) का प्रयोग पावर ट्रांसमिट करने के लिए किया जाता है । इसमें चेन व गरारी का प्रयोग किया जाता है। गरारी को स्प्रोकिट व्हील (Sprocket Wheel) कहते हैं। इस ड्राइव का प्रयोग तभी करते हैं जब उनकी आपसी दूरी कम होती है तथा शाफ्ट तेल इत्यादि में से गुजरती हो। यह बैल्ट ड्राइव से ज्यादा मजबूत होती है। इसका प्रयोग दो समान्तर शाफ्टों को चलाने के लिए 90° के कोण पर पावर ट्रांस्मिट करने के लिए किया जाता है। चेन स्टील की बनाई जाती है, जिसमें लिंक (Link) जोड़ कर चेन बनाई जाती है।

Chain Drive Parts Names ( चेन ड्राइव के भागों के नाम )



  • Outer Plate (बाहरी प्लेट)
  • Inner Plate (इनर प्लेट)
  • Roller (रोलर)
  • Pins (पिंस)

Types of Chains ( चैन कितनी प्रकार की होती है? )


  1. Roller Chain ( रोलर चेन )
  2. Detachable Link Chain ( डिटैचेबल लिंक चेन )
  3. Bushing Chain ( बुशिंग चेन )
  4. Silent Chain ( साइलेंट चेन )


रोलर चेन ( Roller Chain ) :-


इस प्रकार के चेन में रोलर लिंक लगे होते हैं। इसका प्रयोग हार्ड किए हुए sprocket wheel के साथ किया जाता है। यह चैन सिंगल स्टैंडर्ड (Single Roller), डुप्लेक्स (Duplex Roller), ट्रिपलेक्स स्टैंडर्ड (Triplex Roller) में बनी होती हैं। कम लोड (Load) के लिए सिंगल स्टैंडर्ड चेन भारी और अधिक गति के लिए डुप्लेक्स, ट्रिपलेक्स स्टैंडर्ड का प्रयोग किया जाता है।

डिटैचेबल लिंक चेन ( Detachable Link Chain ):-


इससे ब्लॉक चेन भी कहते हैं यह चैन malleable Steel के हुक के आकार में बनी होती हैं। इसे आसानी से खोला वह जोड़ा जा सकता है और आसानी से छोटा या बड़ा किया जा सकता है।

बुशिंग चेन ( Bushing Chain ):-

यह चेन रोलर (Chain Roller) चेन की तरह होती है लेकिन इसमें रोलर के स्थान पर बुश लगे होते हैं, यह कम भार वह कम गति के लिए प्रयोग किया जाता है।

साइलेंट चेन ( Silent Chain ):-


इस प्रकार के चेन में आवाज नहीं होती, इसलिए इसे साइलेंट चेन कहते हैं। इसमें लिंक रेडियस में बने होते है।इसमें टूथ लिंको को पिन के द्वारा जोड़ा जाता है जिसमें लिंक पिन पर टूथ फ्री (Tooth Free) रहता हैं।

What is Sprocket ( स्प्रोकेट क्या है? ):-


स्प्रोकेट (Sprocket) एक गोलाकार प्लेट है जिसकी बाहरी परिधि पर तेज नुकीले स्पर गीयर की तरह दांत कटे होते हैं। इसमें दांतो की संख्या के अनुसार गति कम या ज्यादा होती हैं।



Post a comment

0 Comments